Sunday, 29 January 2012

General knowledge for IAS

1. तुर्की का पिता के उपनाम से किसे जाना जाता है।

- मुस्तफा कमालपाशा

2. रेड इंडियन कहां के निवासी थे।

- अमेरिका

3. किस एक्ट में लड़की के लिए विवाह की उम्र 18 वर्ष निर्धारित की गई।


- शारदा एक्ट (1930)


4. राजा राम मोहन राय को राजा की उपाधि किसने प्रदान की।

- अकबर द्वितीय

5. मोहम्मद अली जिन्ना को कायदे आजम की उपाधी किसने प्रदान की।


- महात्मा गांधी

6. कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान किस राज्य में है।

- उत्तराखंड

7. महलों का शहर के नाम से कौनसा शहर जाना जाता है।

- कोलकाता

8. गंगासागर परियोजना किस नदी पर स्थित है।

- चंबल (मध्यप्रदेश)


9. अखबारी कागज बनाने का सरकारी कारखाना कहां पर है।

- नेपानगर (मध्य प्रदेश)

10. भारत में कागज बनाने का पहला कारखाना कहां पर खोला गया।

- ट्रंकवार में (1716)

11. किसके वेतन पर आयकर नहीं लगता है।

- राष्ट्रपति

12. मंत्रिपरिष्द सामूहिक रूप से किसके प्रति उत्तरदायी होती है।

- लोक सभा

13. किस राष्ट्रपति के निर्वाचन के समय दूसरे चक्र की मतगणना करनी पड़ी।

- वी.वी. गिरि

14. संविधान के किस अनुच्छेद में प्रधानमंत्री की नियुक्ति वर्णित है।

- अनुच्छेद 75

15. राज्य सभा की सदस्यता के लिए न्यूनतम उम्र सीमा कितने वर्ष है।

- 30 वर्ष

16. वर्तमान में संघ सूची में कितने विषय सम्मिलित है।

- 98

17. वर्तमान में राज्य सूची में कितने विषय शामिल हैं।

- 62

18. वर्तमान में समवर्ती सूची में कितने विषय हैं।

- 52

19. रियासतों को भारत में सम्मिलित करने के लिए किसके नेतृत्व में रियासती मंत्रालय बनाया गया।

- सरदार बल्लभ भाई पटेल

20. दिल्ली को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का दर्जा संविधान के किस संशोधन के द्वारा दिया गया है।

- संविधान के 69वें संशोधन में

6 comments:

  1. this post is amazing.......... www.gadgetguruji.com team

    ReplyDelete
  2. *****शीलादित्य सम्राट हर्षवर्धन एवं उनका युग (४६७ से ८१० ई . तक )************
    पुस्तक का केन्द्रीय विषय सम्राट हर्षवर्धन है । साथ ही ४६७ से ८१० ई. तक के उत्तर भारत के राजवंशो एवं सम्राटो के विषय में ,जिसे वर्तमान में अन्धकार का युग मन जाता है ,तथ्यात्मक सामग्री उपलब्ध कराई गयी है ।
    सम्राट हर्ष वीर ,साहसी ,कुशल राजनीतिग्य,मर्यादित महत्वकांक्षी,उदार चरित्र ,धार्मिक ,सामाजिक सहिष्णु ,लोक कल्याण में समर्पित ,कुशल प्रबंधक ,भारतीय संस्कृतिक मूल्यों में दृढ आस्थाशील एवं अद्भुत दानी एक अद्वितीय शाशक हुए है । इस काल में भारतीय व्यवस्था ,आर्थिक सम्रिध्धता ,उच्च नैतिक स्टार ,रास्ट्रीय भावो से ऒतप्रोत संस्कारित राष्ट्र जीवन की झलक के स्पष्टता से दर्शन होते है ।
    चक्रवर्ती गुप्त साम्राज्य के पतन ५५० ई . के उपरांत भी मगध में ७०० ई . तक वे उत्तरापथ्नाथ बने रहे । हूणों का उन्मूलन एवं उनका भारतीयकरण करने का श्रेय गुप्त सम्राटो एवं विशेष रूप से सम्राट भानुगुप्त बालादित्य एवं मालवा नरेश कुमार्माटी यशोधर्मा को है ।
    परवर्ती गुप्त वंश चक्रवर्ती गुप्त सम्राटो के ही रक्त सम्बन्धी थे । इनका पूर्व पुरुष कृष्णगुप्त का पिता गोविन्द गुप्त चन्द्रगुप्त द्वितीय विक्रमादित्य का बड़ा पुत्र वैशाली का प्रशाशक था ।
    चक्रवर्ती गुप्तो की रिक्तता को हर्ष ने भरा ,हर्ष के पश्चात् की रिक्तता को गुप्त सम्राट आदित्यसेन ने ,उनके पश्चात की रिक्तता को भरा मौखिरी सम्राट यशोवर्मन ने उसके पश्चात कर्कोट नागवंश के सम्राट ललितादित्य मुक्तापिद एवं उनके पोते सम्राट विनयादित्य जयपीड ५५० से ८१० ई. तक निरंतर उत्तरापथ के सम्राट हुए है ।
    उक्त सभी विषयो पर तथ्यात्मक सामग्री के साथ तार्किक द्रस्ठी से महत्वपूर्ण सामग्री संकलित की है ।
    आज ही आर्डर करे 9414880321
    VISIT www.samratharshbyvijaynahar.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. visit now http://doandaskquestions.blogspot.in

    ReplyDelete